राहु राहु और केतु राग-द्वेष के नाटक को दर्शाता है। जो कि मन में आ रहे नफ़रत और आर्कषण को अवचेतन मन की तरफ ले…